अपनी आत्मशक्ति को पहचानें | The Saint, The Surfer and The CEO PDF Download Free in Hindi By Robin Sharma

पुस्तक का विवरण (Description of Book of अपनी आत्मशक्ति को पहचानें PDF | The Saint, The Surfer and The CEO PDF Download) :-

नाम 📖अपनी आत्मशक्ति को पहचानें PDF | The Saint, The Surfer and The CEO PDF Download
लेखक 🖊️
आकार 2.4 MB
कुल पृष्ठ171
भाषाHindi
श्रेणी,
Download Link 📥Working

इस असाधारण पुस्तक के पन्नों के भीतर, पाठक अपने जीवन को फिर से बनाने और अपने सर्वश्रेष्ठ स्वयं के साथ फिर से जुड़ने के लिए एक व्यावहारिक लेकिन शक्तिशाली प्रक्रिया की खोज करेंगे। कभी-कभी, एक ऐसी किताब आती है जिसमें हममें से सबसे अच्छे हिस्से से बात करने की शक्ति और ज्ञान होता है और हमारे जीवन में होने वाले चमत्कार के लिए हमारे उच्चतम स्वयं को जागृत करता है। इस वास्तव में अविस्मरणीय मार्गदर्शिका में, रॉबिन शर्मा, राष्ट्रीय बेस्टसेलर "द मॉन्क हू सोल्ड हिज़ फेरारी" के लेखक और एक ऐसा व्यक्ति जिसके जीवन के सबक वर्तमान में दुनिया भर में कई हजारों लोगों के जीवन को बदल रहे हैं, आपको दिखाएंगे कि कैसे अपने भीतर तक पहुंचें उपहार दें और इस प्रक्रिया में आपके पूरे बाहरी जीवन को नया आकार दें। शानदार सादगी और उल्लेखनीय अंतर्दृष्टि के साथ, "द सेंट, द सर्फर एंड सीईओ" आपको सिखाएगा: - अपने आप को धोखा देने से कैसे रोकें और अपने भाग्य को जीएं - अपने दिनों में एक दुर्लभ मात्रा में तृप्ति और आनंद को महसूस करने के सरल तरीके - कैसे करें अधिक जोश से भरे जीवन के लिए अपने भीतर के बच्चे को दिल की तरह फिर से कनेक्ट करें - तनाव पर विजय पाने के लिए सबक, जीवन को संतुलित करें, और अपने बारे में अच्छा महसूस करें - एक सिद्ध प्रक्रिया जो आपके रिश्तों में क्रांति लाएगी और आपके जीवन को प्यार से भर देगी - रोमांच, सादगी को कैसे बहाल करें , और आपके जीवन में समृद्धि - काम में आश्चर्यजनक रूप से सफल होने के लिए शक्तिशाली सिद्धांत - अपने भविष्य के लिए एक भव्य दृष्टि को देखने में मदद करने के लिए व्यावहारिक ज्ञान और फिर इसे एक वास्तविकता बनाएं।

पुस्तक का कुछ अंश

यह पुस्तक एक कथा साहित्य है। यह जैक वेलेंटाइन नामक एक व्यक्ति की कहानी है, जिसकी जीवन- यात्रा का मार्ग कई मामलों में मेरे जीवन-पथ जैसा ही रहा था। एक मनुष्य के रूप में उन्हें अपना जीवन अधूरा लग रहा था, इसलिए एक बेहतर, अधिक खुशहाल और अधिक सुंदर जीवन जीने के लिए वह ज्ञान की खोज में निकल पड़े थे। तीन बड़े-बड़े गुरुओं से साक्षात्कार के माध्यम से जैक ने अपनी संभाव्यता व यथार्थ को एक नया रूप देने के लिए एक प्रभावशाली दर्शन की खोज की। अपनी इस अद्भुत साहसिक यात्रा में जैक ने जो कुछ सीखा, वह आपको भी अपने जीवन में सुंदर बदलाव लाने के लिए विवश कर देगा। ऐसा में इसलिए कैसे कह सकता हूँ, क्योंकि इसने मेरे स्वयं के जीवन को पहले ही रूपांतरित कर दिया है।
अपनी इस यात्रा के दौरान मेरा सामना अनेक मुश्किलों व बाधाओं से भी हुआ है। परंतु एक-एक बाधा ने मेरे लिए अपने यथार्थ और सर्वोत्तम जीवन के निकट पहुंचने की एक एक सीढ़ी का काम किया।
कुछ वर्ष पूर्व में एक वकील था और सफलता के लिए संघर्ष कर रहा था, यह सोचते हुए कि इसी में मुझे स्थायी शांति व संतोष मिल सकता है। लेकिन जैसे-जैसे में ज्यादा मेहनत करता गया, वैसे-वैसे मुझे अहसास होता गया कि इतना सबकुछ हासिल करने के बावजूद कुछ नहीं बदला है, सबकुछ पहले की तरह ही है। भौतिक उपलब्धि मैंने चाहे जितनी हासिल कर ली हो, लेकिन बाथरूम में लगे दर्पण में मैं जिस व्यक्ति को देखता था, वह बिलकुल पहले जैसा ही था। न तो मुझे पहले से ज्यादा खुशी महसूस होती थी और न ही कहीं कोई बेहतरी दिखाई देती थी। अपने जीवन के बारे में में जितना ज्यादा सीख रहा था, अपने मन- हृदय में मुझे उतना ही ज्यादा एक खालीपन का अहसास होता जा रहा था। मैंने इन मूक संकेतों की ओर ध्यान देना शुरू कर दिया, जिससे मुझे अपने चुने हुए पेशे को छोड़ने और गहराई में जाकर कुछ आत्मान्वेषण करने की प्रेरणा मिली। मैं सोचने लगा कि इस पृथ्वी पर मेरा जन्म किसलिए हुआ है और मेरा व्यक्तिगत मिशन क्या है? मैं सोचने लगा था कि आखिर मेरा जीवन यथार्थ सफलता के मार्ग पर क्यों नहीं चल पा रहा है और उसे सही मार्ग पर लाने के लिए क्या-क्या बदलाव जरूरी हैं? मैंने उन मूल विश्वासों, धारणाओं और दृष्टि-बिंदुओं का अवलोकन किया, जिनके माध्यम से मैंने दुनिया को देखा था और फिर उनमें मौजूद दोषों को दूर करने में स्वयं को लगा दिया।

जीवन में वैसी पीड़ा मुझे कभी नहीं हुई। मेरा दाहिना हाथ जोर-जोर से काँप रहा था और मेरी सफेद कमीज खून से लथपथ हो रही थी। सोमवार की सुबह थी वह, और मेरे मन में एक ही बात आ रही थी कि मेरे मरने के लिए यह कोई अच्छा दिन नहीं है। मैं अपनी कार में निश्चल पड़ा चारों ओर फैली निस्तब्धता को निहार रहा था। जिस ट्रक ने मुझे कुचला था, उसमें कोई नहीं था। वहाँ एकत्रित लोगों की भीड़ यह दृश्य देखकर भयभीत थी। यातायात पूरी तरह बंद हो गया था। चारों ओर निस्तब्धता थी। मुझे सुनाई दे रही थी तो बस सड़क के किनारे-किनारे लगे पेड़ों की पत्तियों के हिलने से उत्पन्न होनेवाली आवाज ।
तभी मेरे बगल में खड़े लोगों में से दो लोग भागते हुए मेरे पास आए और बताया कि सहायता के लिए एंबुलेंस आ रही है। उनमें से एक नैं तो भावुक होकर मेरा हाथ पकड़ लिया और प्रार्थना करने लगा, "हे भगवान्! इसकी रक्षा करो, इसे बचा लो " कुछ ही मिनट में एंबुलेंस और फायर दरक तथा पुलिस की गाडियाँ सायरन बजाती हुई घटना स्थल पर पहुँच गई। मेरे लिए जैसे सबकुछ मंद पड़ गया था। मन के भीतर सांत्वना का एक अजीब सा भाव उभरने लगा था, क्योंकि बचाव दल व्यवस्थित ढंग से अपने कार्य में लग गया था। मैं स्वयं को इन सब चीजों का एक प्रत्यक्षदर्शी जैसा महसूस कर रहा था।

ऐसा सुंदर दृश्य मैंने पहले कभी नहीं देखा था। इससे पहले में कई समुद्र तटों पर जा चुका था, लेकिन यह तट उन सबसे अलग था, जो साक्षात् निर्वाण जैसा प्रतीत हो रहा था। टैक्सी चालक को उसका किराया देते समय मैं अपने आपको रोक नहीं सका और मेरे मुँह से बरबस ही निकल गया, "मुझे अपनी वापसी का रास्ता मिल गया है।"
"आपको पूरा विश्वास है, भाई?" उसने पूछा। हम निकटतम शहर से मीलों दूर आ गए हैं
और इस द्वीप पर यह सबसे निर्जन तट है। अगर आप चाहें तो मैं कुछ घंटों बाद आपको वापस लेने के लिए आ सकता हूँ।" I "नहीं, बस धन्यवाद।" मैंने जवाब दिया, "मुझे लग रहा है कि यहाँ मेरे लिए अच्छा रहेगा। जानते हो, दुनिया एक मित्रवत् स्थान है?" कहते हुए में जान-बूझकर मुसकरा पड़ा। उस बालक ने एक बार ध्यान से मेरी ओर देखा, सिर हिलाया और टैक्सी चला दी।

हमने अपनी आत्मशक्ति को पहचानें PDF | The Saint, The Surfer and The CEO PDF Book Free में डाउनलोड करने के लिए लिंक निचे दिया है , जहाँ से आप आसानी से PDF अपने मोबाइल और कंप्यूटर में Save कर सकते है। इस क़िताब का साइज 2.4 MB है और कुल पेजों की संख्या 171 है। इस PDF की भाषा हिंदी है। इस पुस्तक के लेखक   रोबिन शर्मा / Robin Sharma   हैं। यह बिलकुल मुफ्त है और आपको इसे डाउनलोड करने के लिए कोई भी चार्ज नहीं देना होगा। यह किताब PDF में अच्छी quality में है जिससे आपको पढ़ने में कोई दिक्कत नहीं आएगी। आशा करते है कि आपको हमारी यह कोशिश पसंद आएगी और आप अपने परिवार और दोस्तों के साथ अपनी आत्मशक्ति को पहचानें PDF | The Saint, The Surfer and The CEO को जरूर शेयर करेंगे। धन्यवाद।।
Q. अपनी आत्मशक्ति को पहचानें PDF | The Saint, The Surfer and The CEO किताब के लेखक कौन है?
Answer.   रोबिन शर्मा / Robin Sharma  
Download

_____________________________________________________________________________________________
आप इस किताब को 5 Stars में कितने Star देंगे? कृपया नीचे Rating देकर अपनी पसंद/नापसंदगी ज़ाहिर करें।साथ ही कमेंट करके जरूर बताएँ कि आपको यह किताब कैसी लगी?
Buy Book from Amazon
4.9/5 - (23 votes)

Leave a Comment