बनारस टॉकीज / Banaras Talkies PDF Download Free Hindi Book by Satya Vyas

पुस्तक का विवरण (Description of Book) :-

नाम / Name 📥बनारस टॉकीज / Banaras Talkies
Author 🖊️
आकार / Size 0.6 MB
कुल पृष्ठ / Pages 📖163
Last UpdatedMarch 5, 2022
भाषा / Language Hindi
Category

बनारस टॉकीज़ साल 2015 का सबसे ज़्यादा चर्चित हिंदी उपन्यास है। साल 2016 और 2017 में भी ख़ूब पढ़े जाने का बल बनाए हुए है। सत्य व्यास का लिखा यह उपन्यास काशी हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) के छात्रावासीय जीवन का जो रेखाचित्र खींचता है वो हिंदी उपन्यास लेखन में पहले कभी देखने को नहीं मिला। इस किताब की भाषा में वही औघड़पन तथा बनरासपन है जो इस शहर के जीवन में। सत्य व्यास 'नई वाली हिंदी’ के सर्वाधिक लोकप्रिय लेखक हैं।

हमने बनारस टॉकीज / Banaras Talkies PDF Book Free में डाउनलोड करने के लिए लिंक निचे दिया है , जहाँ से आप आसानी से PDF अपने मोबाइल और कंप्यूटर में Save कर सकते है। इस क़िताब का साइज 0.6 MB है और कुल पेजों की संख्या 163 है। इस PDF की भाषा हिंदी है। इस पुस्तक के लेखक   सत्य व्यास / Satya Vyas   हैं। यह बिलकुल मुफ्त है और आपको इसे डाउनलोड करने के लिए कोई भी चार्ज नहीं देना होगा। यह किताब PDF में अच्छी quality में है जिससे आपको पढ़ने में कोई दिक्कत नहीं आएगी। आशा करते है कि आपको हमारी यह कोशिश पसंद आएगी और आप अपने परिवार और दोस्तों के साथ बनारस टॉकीज / Banaras Talkies को जरूर शेयर करेंगे। धन्यवाद।।
Q. बनारस टॉकीज / Banaras Talkies किताब के लेखक कौन है?
Answer.   सत्य व्यास / Satya Vyas  
Download

_____________________________________________________________________________________________
आप इस किताब को 5 Stars में कितने Star देंगे? कृपया नीचे Rating देकर अपनी पसंद/नापसंदगी ज़ाहिर करें।साथ ही कमेंट करके जरूर बताएँ कि आपको यह किताब कैसी लगी?
Buy Book from Amazon
5/5 - (52 votes)

2 comments

  • Shivam

    तीन दोस्तों की लंकेटींग , बी.डी.जीवी के लौंडौं की चुहलबाजी से लेकर बॉम्ब ब्लास्ट तक की एक कहानी।
    इस किताब के शुरुवात में जिग जिग्लर की एक लाईन लिखी है की,
    हर घटना के पीछे कोई कारण होता है। संभव है की यह घटित होते वक्त आपको न दिखे,
    लेकिन अंततः जब यह सामने आएगा, आप सन्न रह जाएँगे।
    ठीक इसी तरह आप इस किताब के अंत में सन्न रह जाएंगे ।

  • Shivam

    तीन दोस्तों की लंकेटींग , बी.डी.जीवी के लौंडौं की चुहलबाजी से लेकर बॉम्ब ब्लास्ट तक की एक कहानी।
    इस किताब के शुरुवात में जिग जिग्लर की एक लाईन लिखी है की,
    हर घटना के पीछे कोई कारण होता है। संभव है की यह घटित होते वक्त आपको न दिखे,
    लेकिन अंततः जब यह सामने आएगा, आप सन्न रह जाएँगे।
    ठीक इसी तरह आप इस किताब के अंत में सन्न रह जाएंगे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *