महाभारत के पात्रों का आध्यात्मिक प्रतीकात्मक स्वरूप / Mahabharat Ke Patron Ka Adhyatmik Pratikatmak Swarup Download Free PDF

“महाभारत’ को पांचवां वेद माना गया है और ग्रंथ की भूमिका में इसे चारों वेदों से भी अधिक गरिमावान घोषित {किया गया है (1.1.272)। ऋषियों ने इसे पुराण और इतिहास दोनों कहा है। (1.1.17,19) {किन्तु कथा के लगभग सभी प्रमुख पात्रों की उत्पत्ति दैविक अथवा परामानवीय बतलाई गई है जिससे इंगित होता है कि कथा को आध्यात्मिक स्वरूप प्रदान {किया

» Read more

महाभारत की अनसुनी कहानियाँ: भाग 1 / Mahabharat ki Ansuni Kahaniyan: Bhag 1 by Aditya Joshi Download Free PDF

महाभारत के पात्रों की अमर कहानियाँ सदियों से हमें अपने जीवन के रास्ते पर सही ढंग से चलने की सतप्रेरणा देती आ रही हैं। महारथी कर्ण ने अपने भाग्य के साथ किया हुआ अटूट संघर्ष, पितामह भीष्म की विलक्षण ध्येयनिष्ठा, अधर्म के विनाश के लिए द्रौपदी ने किया हुआ असीम त्याग, श्री कृष्ण की चतुर रणनीति, विदुर का सदाचार और

» Read more

अजेय: पासों का खेल / Ajaya: Paason ka Khel / Ajeya

यह भारत के सबसे बड़े महाकाव्यों, महाभारत पर आधारित एक कहानी है। लेकिन, जबकि जय – पांडवों की जीत के बारे में कहानी थी, अजय -कौरवों के दृष्टिकोण से कहानी है।

» Read more

कलि का उदय : दुर्योधन की महाभारत / Kali Ka Uday – Duryodhan Ki Mahabharat

कलि का उदय दुर्योधन की महाभारत महाभारत को एक महान महाकाव्य के रूप में चित्रित किया जाता रहा है I परंतु जहाँ एक ओर जय पांडवों की कथा है, जो कुरुक्षेत्र के विजेताओं के दृष्टिकोण को ध्यान में रखते हुए प्रस्तुत की गई हैं, जो कुरुक्षेत्र के विजेताओं के दृष्टिकोण को ध्यान में रखते हुए प्रस्तुत की गई है; वही

» Read more
1 2