चलता फिरता प्रेत / Chalta Phirta Pret PDF Download Free Hindi Books by Manav Kaul

पुस्तक का विवरण (Description of Book of चलता फिरता प्रेत / Chalta Phirta Pret PDF Download) :-

नाम 📖चलता फिरता प्रेत / Chalta Phirta Pret PDF Download
लेखक 🖊️
आकार 1.4 MB
कुल पृष्ठ154
भाषाHindi
श्रेणी
Download Link 📥Working

बहुत वक़्त से सोच रहा था कि अपनी कहानियों में मृत्यु के इर्द-गिर्द का संसार बुनूँ। ख़त्म कितना हुआ है और कितना बचाकर रख पाया हूँ, इसका लेखा- जोखा कई साल खा चुका था। लिखना कभी पूरा नहीं होता... कुछ वक़्त बाद बस आपको मान लेना होता है कि यह घर अपनी सारी कहानियों के कमरे लिए पूरा है और उसे त्यागने का वक़्त आ चुका है। त्यागने के ठीक पहले, जब अंतिम बार आप उस घर को पलटकर देखते हैं तो वो मृत्यु के बजाय जीवन से भरा हुआ दिखता है। मृत्यु की तरफ़ बढता हुआ, उसके सामने समर्पित-सा और मृत्यु के बाद ख़ाली पड़े गलियारे की नमी-सा जीवन, जिसमें चलते-फिरते प्रेत-सा कोई टहलता हुआ दिखाई देने लगता है और आप पलट जाते हैं। —मानव कौल

 

पुस्तक का कुछ अंश

 

भूमिका
किताब ख़त्म हो चुकी थी। पब्लिशर को भेजने से पहले उसने एक बार सारी कहानियों को तरतीब से पढ़ा। फिर देर तक अपने लिखे को ताकता रहा। उन चेहरों को देर तक खोजता रहा जिन्हें समय के साथ उसने दफ़्न होते देखा था। उसे मृत्यु और मृत्यु के इर्द-गिर्द घट रहे चित्रसंवाद बेहद आकर्षित करते थे। पहली बार मृत्यु पर लिखने की अभिलाषा उसने उससे व्यक्त की थी। अचानक उसका चहरा उसके दिमाग़ में कौंधने लगा... एक अजीब-सा विचार उसके मन में आया कि क्या वह इन कहानियों को छपने से रोक सकता हैक्या वह अपने लिखे और खुद के बीच के इस खेल कोबिना अंतिम परिणिति दिएअंत तक खेलता रह सकता हैएक बार को इच्छा हुई कि वह सारा कुछ मिटा दे और फिर से शुरू करे। उसने झटके से लैपटॉप बंद किया और अपने लिखे से दूर चला गया। मतलब जितना दूर वह इस वक़्त जा सकता था। किचिन तक।
आस्था और स्थिरता की तलाश में वह उबलती हुई चाय के सामने देर तक खड़ा रहा। क्या वह उसे फ़ोन करेक्या उसने पहली वाली किताबें भी पढ़ी होंगी उसकीचाय छानते वक़्त वह अपने ढेरों ईमेल्स के बारे में सोचता रहा जिसके जवाब उसने कभी नहीं दिए थे। चाय हाथ में लिए वह रेंगता हुआ अपने लिखे के अगल-बग़ल आकर पसर गया। फ़ोन निकालकर उसने उसका नाम टाइप किया ‘भूमिका’तुरंत उसका नाम स्क्रीन पर चमकने लगा पर उसने फ़ोन नहीं किया। वह अपने पुराने मेल्स में उसका नाम सर्च करने लगा। भूमिका से माफ़ी माँगने के ढेरों मेल,  एक के बाद एक खुलते गए। उसे याद आया उसने न्यूयार्क की एक रात उससे कहा था कि तुम्हारे पास से किताबों की ख़ुशबू आती है।
वह कहाँ होगीबॉस्टन या वापिस आ गई होगीकितने साल बीत गए हैं और हिसाब रखने के लिए उसकी तरफ़ से एक जवाब भी कभी नहीं आया। उसने भूमिका को फ़ोन लगा दिया। कुछ देर बाद घंटी बजना चालू हुई। वह प्रार्थना करने लगा कि वह फ़ोन न उठाए... फिर वह फ़ोन क्यों कर रहा हैउसने कुछ देर में फ़ोन काट दिया। चाय लेकर वापिस लैपटॉप के पास आया। उसे इस कहानी-संग्रह की भूमिका लिखनी थी। वर्ड फ़ाइल का एक नया डॉक्यूमेंट खोलकर उसने ऊपर बड़े अक्षरों में भूमिका लिखा। भूमिका के नीचे सफ़ेद कोरापन उसे घूर रहा था। तभी फ़ोन बजा। जो नंबर दिख रहा था वो अमेरिका का था... उसने हेलो कहा। वहाँ से कुछ देर के सन्नाटे के बाद आवाज़ आई।
“मैं भूमिका...”
भूमिका की आवाज़ में इतनी सहजता होगी उसने इसका अंदाज़ा नहीं लगाया था। वह पिछले कई सालों से अपने लिखे में सहजता ही तो तलाश रहा था। तभी भूमिका ने कहा-
“तुमने फ़ोन किया था। सब ठीक है?”
“हाँसब ठीक है। मैंने सोचा बहुत वक़्त हो गया। तुमसे पूछूँ.... तुम कहाँ हो आजकल?”
“न्यूयॉर्क में...  जॉब करती हूँ।“
“अरे...न्यूयॉर्क!”
“क्योंयहाँ जॉब नहीं कर सकती!”
“नहीं... तुम्हें तो न्यूयॉर्क बिलकुल पसंद नहीं था ना... इसलिए...”
“न्यूयॉर्क मुझे तुम्हारे कारण पसंद नहीं था... अभी ठीक है।”
काश भूमिका कहानी होती तो संवाद कितने आसान होते—वह सोचने लगा।
“तुम्हें याद है मैंने तुम्हें कहा था कि मैं मृत्यु शब्द के आसपास बहुत सारा लिखना चाहता हूँअभी अपना कहानी-संग्रह ख़त्म किया हैइन्हीं सब बातों परतो तुम्हें फ़ोन करने से खुद को रोक नहीं पाया।”
उसने एक साँस में सारा कुछ कह दिया। उसे लगा कि इस वक़्त वह अपने कहे में ईमानदार था पर भूमिका की चुप्पी के सामने उसे अपने कहे पर संदेह होने लगा।
“इसलिए फ़ोन किया था मुझे?” भूमिका ने सीधे पूछा।
“हाँ... असल में... पता नहीं...”
“तो जब पता चल जाए तब फ़ोन करना...”
“नहीं सुनो... ग्लानि है... पछतावा है... न्यूयॉर्क में जो हुआ था उसकी पीड़ा है।”
“वो तो मैं भूल चुकी हूँ...”
“मैं नहीं भूला...”
“तुमने अभी पीड़ा को पूरी तरह निचौड़ा नहीं है... इसलिए तुम भूलना नहीं चाहते।”
“ऐसा नहीं है...”
“तो कैसा है.. बोलो...?”
“क्या बोलूँ भूमिका... सारी कहानियों का अंत तुम्हारे इंतज़ार की शुरुआत रहा हैकहानियों में तुम पानी हो और जब भी तुमसे संवाद करने की सोचता हूँ तो गला सूख जाता है। तुम्हें फ़ोन करने में भी तुम्हारे फ़ोन ना उठाने की इच्छा छुपी रहती है...”
वह सारा कुछ कहकर चुप हो गया। भूमिका ने भी कुछ बोला नहीं। कुछ देर में भूमिका ने एक गहरी साँस ली मानो किसी बहुत लंबी यात्रा के बाद अभी-अभी घर पहुँची हो।
“तुम जो कहते हो वो सारा बहुत सतही है... मैं हमारी ये चुप्पी सुनना चाहती हूँ... जो दो संवादों के बीच टँगी रहती है हवा में... उसे कह पाओगे?”
उसे लगा इतने सालों में पहली बार उसने भूमिका को वापिस सुना है। उसकी कहानी में तितर-बितर बिखरी पड़ी हुईअभी बहुत वक़्त बाद सतह पर आई हो मानो।
“चुप्पी कैसे कहें?” उसने कहा।
“तुम लिखते हो... तुम जानो।”
“इन सारे मौन को कहने के लिए एक प्रेत की ज़रूरत होगी... चलते-फिरते प्रेत की... जो बातों को ऐसे कहे कि कविता लगे... हाँ कविता... कविता की ज़रूरत होगी... कविता छुपे हुए वाक्यों को सतह पर आसानी से ले आती है। पर उस प्रेत को सुनने के लिए गहरे उतरना पड़ेगा।”
“कितना गहरे?” भूमिका ने चंचलता लिए पूछा।
“उतना ही जितनी जगह हमेशा छूटी रहती है हमारे दो संवादों के बीच।”
भूमिका चुप रही और वह इस चुप्पी में किसी प्रेत के कुछ कह देने की प्रार्थना करने लगा।
“तुम्हें पता है ना कि ईश्वर नहीं है कहीं भी।” जैसे ही भूमिका ने कहना शुरू किया उसे लगा उसे उसकी भूमिका मिल गई। “नाभी के आस-पास जो भी पैठ जाता है वो सिर्फ़ चखा हुआ सच है। जिसके कभी दो मानी नहीं हैं। रूह जैसी भी कोई चीज़ नहीं होती। हमारे इस हाड़-माँस की धरातल असल में झूठ की बनी हुई है... इस पर नाभी के आस-पास का सच हर कुछ समय में टूटकर झड़ जाता है। झूठ की धरातल पर इस सच के गिरने की आवाज़ देर तक गूँजती रहती है। इन सबमें एक उम्र के बाद अपने हाथों की रेखाओं को टटोलने से बड़ी कोई त्रासदी नहीं है। जन्म कल्पना है... पर मृत्यु सत्य है... जिसे तुम हमेशा से लिखना चाह रहे थे। पर जो भी तुम लिखते हो वो उस सच की त्रासदियाँ है... बस... मृत्यु तो तब होगी जब तुम लिखना छोड़ दोगे।”
वह दो संवादों के बीच की चुप्पी की कविता सुन रहा था। मानो इस कविता का इंतज़ार उसने पूरी उम्र किया हो।
भूमिका के कहने के बाद वह ख़ाली हो चुका था। वह भूमिका से पूछना चाह रहा था कि क्या तुम अभी भी पॉट्री करती होपर उसने कहा कि मैंने इस संग्रह का नाम ‘चलता-फिरता प्रेत’ रखा है... इस बात पर भूमिका हँस दी और उसने फ़ोन काट दिया।
कहानी-क्रम
  • घोड़ा
  • ब्लू रेनकोट
  • नादान
  • पिता और पुत्र
  • रचना
  • स्मगलर
  • चलता-फिरता प्रेत
घोड़ा
वह नदी किनारे पैदा हुई थी। पर यह बहुत पुरानी बात थी। अब तो उसे यह भी ठीक से नहीं पता था कि वह उम्र के साठवें में है या सत्तरवें में। वह कभी आईने को साफ़ कर रही होती तो ख़ुद को यों देखती मानो वह किसी और को देख रही हो। वह अपने ही सामने से गुज़र जातीजैसे उस आईनेवाली से उसका कोई संबंध ही न हो।
वह नदी किनारे पैदा हुई थी। नदी से संबंध- वह अपनी नाभि में महसूस करती थी। वह जब भी नदी के क़रीब होती तो जल्दी से पानी छू लेती। पानी के छूते ही उसे लगता कि वह और पानी एक हैं। अगर वह थमी है तो नदी भी स्थिर हैवरना वे दोनों बह रहे हैं। एक पति नाम का पति था जो घर के भीतर की गुफाओं में कहीं प्रेत-सा मँडराता रहता था। बच्चों जैसा उसका बेटासुनहरे भविष्य की तलाश में दूर शहर में कहीं पहाड़ खोदने गया था। 
वह शुरू से ही एकांत से घबराती थी। अपने आपको उलझाए रखने के लिए उसने तय जैसे बहुत से काम तय किए थे।
पति जैसा पति घर के भीतर की गुफाओं में अक्सर भटक जाया करता था। तय जैसे कामों में उसका एक काम यह भी था कि उसे अपने पति को बार-बार उसके पलंग तक पहुँचाना होता था। उसे बहुत समय तक लगता था कि घर सँभला रहता हैक्योंकि उसे घर के वे सारे कोने पता हैं जिन्हें वह हमेशा जालों से बचाकर रखती है। जालों का लगना अशुभ है। यह दुनिया सिर्फ़ शुभ चीज़ों पर चलती है। उसे लगता कि उसकी पीठ पर घर की नींव का पहला पत्थर जमा है। वह हल्का झुककर चला करती थी। उसका पति जैसा पति उससे बार-बार कहता था कि इस तरह कुबड़ों की तरह क्यों चलती हैतब वह कुछ देर के लिए सीधी हो जाया करती थी। पर कुछ ही देर में उसे घर की दरारें दिखतींजाले दिखते और वह अपनी पीठ झुका लेती थी। उसने देखा था कि जब भी उसने अपनी पीठ सीधी की हैसुनहरे भविष्य में व्यस्त उसका बच्चों जैसा बच्चा परेशानी में पड़ गया। यह उसका अंधविश्वास ही थापर पैदा होने से यहाँ तक का सफ़र तय करने में उसने रास्ते से बहुत से अंधविश्वास बटोरे थे। अगर उसे एक बार छींक आ जाए तो वह दूसरी छींक आने तक किसी से बात नहीं करती थी। उसका यह अंधविश्वास पूरा घर जानता था और पास पड़ोस के बूढ़े भी। उसका पति जैसा पति उसकी छींक सुनते ही चुप हो जाता और तब तक चुप रहता जब तक उसे अगली छींक सुनाई न दे। कई बड़े असहज क्षणों में वह झूठा छींक देती या नाक में च्यूँटी काट लेती ताकि छींक आ जाए। झूठा छींकने के बाद बहुत देर तक उसका मन खट्टा बना रहता। उसे लगता कि अंधविश्वास का कोई एक डरावना भगवान है जिसे उसने धोखा दिया है।
उस डरावने भगवान का कहीं कोई कैलेंडर नहीं था
सो वह उसके सपने में अलग-अलग चेहरे लिए हुए आता था। अधिकतर अंधविश्वास के भगवान का चेहरा उसके पति जैसे पति से मिलता-जुलता होता। अंधविश्वास के भगवान का उपचार भी उसने एक और अंधविश्वास से कर लिया था। वह ख़ूब शक्कर वाली चाय बनाती और उस चाय को घर के सामने लगे पीपल के पेड़ के नीचे उड़ेल देती। उसे लगता अंधविश्वास का भगवान बहुत शक्कर वाली चाय से प्रसन्न हो जाता होगा। जैसे उसके पति जैसे पति को शुगर होने के पहले तक बहुत शक्कर वाली चाय बहुत पसंद थी। उसने अपनी शादी के शुरू के दिनडर जैसे कमरे मेंअपने पति के साथ बिताए थे—अपनी नदी से बहुत दूर। जब पति जैसा पति उसे ज़्यादा डरातावह ख़ूब शक्कर वाली चाय बनाकर उसे दे देती थी। वह डराना भूल जाता और वह किचन में भाग जाती। किचन एक गर्म गुफा जैसा था। जब भी उसे ख़तरा दिखता वह अपनी गुफा में उकड़ू बैठकर लगातार काम में व्यस्त हो जाया करती थी। सारे ख़तरे उसने अपनी गुफा में बहुत काम करके दूर भगाए थे।
उसे कुछ डर अभी भी याद आते हैंजब वह उम्मीद से थी तो उसके पति जैसे पति ने कहा कि लड़का चाहिए। उसे लगा कि वह मशीन है जो बच्चे जनती है। वह अपनी मशीन में वह यंत्र तलाशने लगी जिसके ज़रिए पुरुष समाज के पुरुष ही बाहर निकलते हैं। उसने देखा कि एक महिला डॉक्टर उसके बग़ल में खड़ी है। वह डर गई। उसने महिला डॉक्टर से कहा, ‘‘आप मत छुओ वरना आप जैसी कोई होगीमुझे होगा चाहिए। पुरुष समाज से पुरुष को बोलो मुझे छुएआप नहीं।’’ वह डॉक्टर बहुत अचरज से उसे देखती रही। उसने अपने व्यस्त रहने में बहुत कम बाहर वालों से बातें की थीं। बहुत कम में वह जब भी बहुत कम बोलतीउसे लगता कि उसे बहुत कम बोलना भी कम करना पड़ेगा। जब पहला लड़का हुआ तो उसने हाथ जोड़े और अपनी माँओं जैसी माँ को धन्यवाद कहा कि मशीन ने सही काम किया। उसने पुरुष समाज में एक और स्वस्थ पुरुष दिया। फिर उसके पति जैसे पति ने कहा कि देखना इसकी शक्ल मुझ पर जाए। उसने अपने शरीर जैसी दिखने वाली मशीन को देखा फिर उसने उस स्वस्थ पुरुष को देखा जो अभी-अभी उसकी मशीन से निकला था। अभी-अभी जन्मे बच्चे-सा दिखने वाला वह बच्चा बिल्कुल अभी-अभी जन्मा-सा लग रहा था। वह इस वक़्त किसी के जैसा नहीं लग रहा था। वह उसके एकदम पास आ गई देखने कि वह कैसा दिखता हैफिर उसने सोचा कि वह कैसा दिखती हैउसने अपनी शक्ल कब से नहीं देखी थी। वह नदी किनारे पैदा हुई थी। बचपन में नदी में अपना हिलता चेहरा देखना उसे बहुत पसंद था। जब अपने वक़्त पर आने वाली डॉक्टर अपने वक़्त पर पहुँची तो उसने उससे पूछा, “मैं कैसी दिखती हूँ?”
“अच्छी।” डॉक्टर अपनी डॉक्टरी में व्यस्त रहते हुए बोली।
“क्या यह भी अच्छा दिखता है?” उसने पूछा।
“हाँ।” डॉक्टर मुस्कुराई।
यह सुनते हीवह डर गई। वह अच्छीउसका बच्चा अच्छामतलब वह उस पर गया है?
उसे किचन चाहिए था। वह चाहती थी कि वह जल्दी से उकड़ू बैठ जाए और किचन में चली जाए। वह बिस्तर से उठी और उकड़ू बैठकर उस अस्पताल के कमरे में पोंछा लगाने लगी। उस डॉक्टर ने उसे बहुत उठाने की कोशिश कीपर वह बस लगातार अपने काम में व्यस्त होना चाह रही थी। पोंछा लगाते-लगाते उसकी आँखों के सामने अँधेरा छा गया और सब चुप हो गया।
बहुत वक़्त तक उसने अपने बच्चे को नहीं देखा। बहुत बाद में अपने पति जैसे पति को बच्चे के साथ खेलते देखा तो उसे चैन आया। अच्छा हुआ कि वह मेरे जैसा नहीं दिखता हैउसने गहरी साँस ली थी। वह अच्छी दिखती है। बच्चा शायद उसके अंधविश्वास के भगवान पर गया है जिसकी शक्ल उसके पति जैसे पति से मिलती है। उसने तय किया कि जो भी अच्छा नहीं हैवह सब सही हैजो अच्छा हैउसे अपने से दूर रखना है। उसके बाद वह आईने के सामने से यूँ निकल जाती मानो आईने में कोई है ही नहीं।
दिन बीतते गए। जीवन सरीखा सूरज उसके घर के चक्कर काटता रहा। सुबह होती तो वह दाएँ दिखता। वह जब तय जैसे तय कामों में व्यस्त होती तब वह ऊपर दिखता। वह व्यस्तता के बीच में उसे एक बार देख लेती कि वह ऊपर चढ़ आया है। वह जब बाएँ दिखकर भाग जातातब उसे एक साँस की फ़ुर्सत मिलती। रोज़ का यही क्रम था। जीवन सरीखे सूरज के चक्कर काटते रहने मेंबेटा सुनहरे भविष्य के पहाड़ काटने दूर शहर चला गया। पति जैसा पति रिटायर होकर नदी किनारे एक छोटे शहर में चला आया। वह नदी किनारे पैदा हुई थी। वह इस बात से बेहद ख़ुश रहती कि नदी आस-पास ही है। पर पति जैसे पति को किसी पर विश्वास नहीं थाउसे लगता था कि वह घर से निकलेगा और चोर आकर चोरी कर लेगा या दूध वाला दूध में पानी डालकर दे देगा या सब्ज़ी वाला टमाटर के बजाय बैंगन बेचकर चला जाएगा। वह घर को क़िला मानता और ख़ुद को राजासैनिकदरबान सब कुछ।
उसे बाहर निकलने और घूमने का बड़ा शौक़ थालेकिन वह अपने तय जैसे कामों में लगातार व्यस्त रहती। पर कभी-कभी तय जैसे कामों को वह अपने तय समय से पहले निपटाकरकुछ देर के लिए ही सही नदी किनारे चली जाती और नदी में हाथ डाले बैठी रहती। वहाँ उससे उसकी बहन मिलने आती। वह उससे छोटी थी कि बड़ी थी इस उम्र में आकर यह बात गौण हो चुकी थी। वह बहन थी जिसे उसका पति जैसा पति बिल्कुल पसंद नहीं करता था। वह अपने पति जैसे पति के सामने उसकी बात भी नहीं कर सकती थीसो वह छुपकर उससे मिलती। कभी-कभी जब वह नदी से मिलने आतीतब उसे उसमें अपना चेहरा साफ़ दिखता। इस नदी जैसी नदी के पानी में बहुत कम ही उसे उसका चेहरा साफ़ दिखताजब दिखता उसे लगता कि वह नहीं उसकी बहन बैठी है। वह नदी किनारे पैदा हुई थी।
एक दिन नदी जैसी नदी में वह हाथ डाले बैठी थी। पानी बह रहा था सो वह भी बह रही थी। उसकी बहन आई।
“तेरा नाम क्या है?” बहन ने पूछा।
“शमा।”
“और मेरा।”
“सखी।”
“हाँ।” बहन ने कहा।
“क्यों पूछा?”
“मुझे भूलने की बीमारी हो रही है शायदमुझे आजकल कम चीज़ें याद रहती हैं। बहुत ज़ोर डालो तब कुछ याद आता है।”
“नाम तो अच्छे से याद है।” उसने कहा।
“चल गोलगप्पे खाने चलते हैं।”
“नहीं आज नहीं।”
“फिर कब?”
“जब मैं पूरे दिन के तय काम आधे दिन में ख़त्म कर दूँगी तब।”
“अरे पर आज तू शनिवार को कैसे आ गई?” उसकी बहन ने पूछा।
“आज ये बहुत देर से सोकर उठेइसलिए मेरा सुबह का पूरा तय काम जल्दी ख़त्म हो गया।”
“जाते हुए टमाटर ख़रीदकर ले जाना मत भूलना।”
“हाँ इनको टमाटर की चटनी बहुत पसंद है।”
“तेरे को याद है कि कैसे बचपन में पेटीकोट का फुग्गा फुलाकर हम नदी में तैरते थे।”
“हाँ! मैं दो बार डूबते-डूबते बची थी।”
“पिछली बार तूने कहा था एक बार।”
“हाँ-हाँ याद आया एक बार ही।” शमा शरमाते हुए बोली।
“वो बता ना जब पानी के अंदर गई थी तब क्या हुआ था?”
“कितनी बार तो सुन चुकी है।”
“फिर से बता दे। तुझे भी तो अच्छा लगता है।”
“पहले मैं तड़फड़ाती रही साँस लेने के लिएफिर जब बहुत पानी पी लिया तो नीचे जाने लगी। तब मैं आराम से साँस ले रही थी। जब पानी के बहुत अंदर गई थी तो मैंने आँखें खोल ली। वहाँ सारा कुछ चमकीला था। सारी मछलियाँ काम कर रही थीं- पुरुष मछली और महिला मछली। मुझे लगा कि मैं भी मछली हूँपर पानी के अंदर मेरे पास कोई काम नहीं था। फिर मैंने भी उनकी तरह अपनी आँखें फाड़ लीं और इधर-उधर चीज़ें ढूँढ़ने में लग गई।
फिर पता चला कि सारी मछलियाँ खाना ढूँढ़ रही हैं। मैं खाना ढूँढ़ने में छोटी मछलियों का साथ देने लगी। तभी वह हरे
नीले और पीले दानों वाली बड़ी-सी मछली पता नहीं कहाँ से आई। मेरी आँखों के ठीक सामने आकर मुझे घूरने लगी। मैं मुस्कुराई तो वह भी मुस्कुरा दी। मैंने कहा कि कैसी होतो उसने कहा कि मुझे पेट में दर्द है। मैंने कहा कि घर में पेट दर्द की दवा है। उसने कहा कि तू दवा ला तो मैं तुझे कुछ बताऊँगी- एक तिलिस्म है तेरे आस-पास! वह कुछ कह ही रही थी कि तभी पिक्कू भैया ने खींचकर बाहर निकाल लिया। मैं चिल्लाती रही कि मछली मैं कल दवा डाल दूँगीतुम पी लेना।”
“पिक्कू भैया भी पगले हैं।” बहन ने कहा।
“हाँमैं कहती रही कि मैं मछली थी और अपनी मछली से बात कर रही थीलेकिन पिक्कू भैया ने तो चाँटा जड़ दिया।”
“तेरे को माँ की क़सम नहीं खानी थी।” बहन ने कहा।
“मै क्या करती पिक्कू भैया पीछे पड़ गए कि तूने नदी में क़दम रखा तो तेरी माँ मरी समझ।”
“पर तूने क़दम रखा ना।”
“नहीं! जब मैं देर रात घर से भागकर आई तो मैंने पैर पीछे रखे और सिर्फ़ सिर पानी में डालाऔर अपनी मछली को पेट दर्द की दवा दी।”
“तेरे कारण माँ तो मर गई ना।” बहन ने कहा और वह चुप हो गई।
“अच्छा सुन नदी से हाथ निकाल।” उसकी बहन ने कहाउसने तुरंत नदी से हाथ बाहर निकाला।
“अब वापस डाल दे।” उसने वापस हाथ डाल दिया।
“अब बता तूने उसी नदी में हाथ वापस डाला जिस नदी से हाथ बाहर निकाला था?”
“मतलब?” उसने पूछा।
“मतलब नदी तो बह रही हैतू एक ही नदी में वापस हाथ नहीं डाल सकती।”
इस बात पर उसने झूठा छींक दिया। उसकी बहन को चुप होना पड़ा। वह उठी और चलते हुए जब नदी बहुत पीछे छूट गई तो दुबारा झूठा छींक दिया। फिर तुरंत घर आकर बहुत मीठी चाय बनाकर पीपल को चढ़ा दी और आधे दिन के बचे मेंआधे दिन के तय काम करने में व्यस्त हो गई।
एक दिन वह घर में दबे छुपे जालों को साफ़ करते हुए घर के कोनों में उकड़ू गुमी हुई थी कि दरवाज़े पर उसका बच्चों जैसा बच्चा खड़ा दिखा। वह अब अपने बाप के क़द से थोड़ा बड़ा हो चला था। उसका पेट भी निकल आया था और उसका माथा थोड़ा बड़ा हो गया था। शमा को उसे देखकर ख़ुशी हुई कि वह एकदम अपने बाप जैसा दिखने लगा है।
उसने अपनी माँ को देखा और कहा कि देख कौन आया है। वह जब दरवाज़े पर से हटा तो उसने देखा कि पीछे एक लड़की खड़ी है। उस लड़की ने नीला जींस और पीली टी-शर्ट पहन रखी थी। उसने ऊपर से हरे रंग की जैकिट डाली हुई थी। उसने दोनों को देखकर बैठने के लिए जगह दी और भीतर किचन में चाय बनाने चली गई। लड़के ने पूछा कि पिताजी कहाँ हैं
कमरे में तो नहीं दिख रहेवह चौंक गई और फिर उसने घर जैसी गुफा में यहाँ-वहाँ ढूँढ़ा तो ग़ुसलख़ाने की दीवार से टिककर वह खड़े थे। पैजामा नीचे था और वह पेशाब करने का प्रयत्न कर रहे थे। शमा ने पैजामा चढ़ाकर उनसे कहा कि आपका बेटा आया है। जब उसने दूसरी बार कहा तब वह धीमे क़दमों से चलकर बाहर आए। लड़के ने बाप के पैर छुए। लड़की ने बस नमस्ते किया। वह जब चाय लाई तो उसने सुना कि वह कुछ दिन यहाँ रहेगा। उसने घर का एक कमरा दोनों के लिए साफ़ कर दिया। जब वह चाय के ख़ाली कप वापस लेने गई तो उसने देखा कि लड़की ने चाय छोड़ दी है।
उसने पूछा, “दूध दे दूँ?”
लड़की ने हँसकर कहा, “नहीं मैं शक्कर और दूध नहीं पीतीकाली चाय मिलेगी?”
वह बहुत सोचती हुई किचन में वापस आई और सोचा यहाँ काली चाय तो कभी बनी नहीं। उसने आधी चाय जैसी काली चाय बनाई और उसे दे दी। उसने कहा कि अच्छी है। शमा ने कहा कि तुम्हें आधी चाय पसंद हैवह लड़की हँसने लगी। बाप ने उसे पागल कहाबेटे ने सहमति जताई और वह वापस किचन में आकर रात के खाने की तैयारी में लग गई।
लाल टमाटर की चटनीताज़ा भिंड़ीदालथोड़े बैंगन और प्याज़ तथा खीरे का सलादपतली रोटी और बासमती टुकड़ा चावल। वह इन्हें मंद-मंद दोहराती हुई चुप संवाद के साथकाम में जुट गई। अब उसका सिर तभी उठेगा जब वह ये सब बनाकर किचन साफ़ करके सारा कुछ डिनर टेबल पर सजा देगी। उसने भिंड़ी और टमाटर काटने से और साथ ही दाल चढ़ा देने से खाना बनाना शुरू किया। तभी वह नीली जींस और पीली टी-शर्ट वाली लड़की किचन में आई। शमा ने देखा उसने हरा जैकिट उतार दिया है। उसके किचन में अरसे से कोई नहीं आयासो वह एकदम कोने में जाकर चुपचाप टमाटर और भिंडी काटने लगी। उस लड़की ने कहा कि मैं मदद करूँशमा ने सिर्फ़ अपना सिर न में हिलाया।
“तुम्हें भूख लगी हैबस अभी हो जाएगा।” शमा ने कहा।
“नहीं बिल्कुल नहीं। वे दोनों सो गए हैं और मैं बोर हो रही थी तो सोचा आपसे बात करूँ।”
“क्या बात?” शमा को लगा कि उससे क्या बात करनी है।
“नहीं ऐसे ही! मुझे आपका ह्यूमर अच्छा लगा- आधी चाय!” वह लड़की फिर हँसने लगी।
“बना दूँतुम्हें चाहिए?” शमा ने पूछा।
“नहींमैं तो... जाने दीजिए।”
वह लड़की फ़्रिज से टिककर खड़ी हो गई और दूर से शमा को देखती रही। शमा को लगा कि वह लड़की उसका कूबड़ देख रही है। वह सीधी हुईफिर उसे लगा कि कहीं कुछ ग़लत न हो जाए। वह फिर वापस झुकी और जल्दी-जल्दी टमाटर और भिंडी काटने लगी।
उसे निरंतर देख रही आँखों से समस्या थी। वह बज़ार जाती तो उसे लगता कि पूरा बाज़ार अपना काम-धाम छोड़कर उसे देख रहा है। वह चलती और रुकती और चलती और रुकती। उसके पास नदी पहुँचने का चोर रास्ता था। बाज़ार जाना वह देर तक स्थगित रखती- दूध और सब्ज़ी वाले ही घर आ जाते। बाज़ार में पुरुषों की नज़रें बहुत पैनी होतीं। काश गोलगप्पे वाला भी बज़ार के बजाय उसके चोर रास्ते पर खड़ा होता तो वह रोज़ गोलगप्पे खाती!
कुछ देर की असहजता के बाद उसने पूछ लिया, “क्या है?” वह पूछ सकती थी क्योंकि वह भी एक औरत थी। पुरुष होता तो वह पोटली बनकर अपने किचन में तब तक पोंछा लगातीजब तक वह चला नहीं जाता।
“आप कभी शहर अपने बेटे से मिलने क्यों नहीं आतीं?”
“क्यों?”
“ऐसे ही घूमने।”
“नहीं।”
“आप कभी बाहर गई हैं?”
“नदी जाती हूँ कभी-कभी चोरी सेतुम उनको मत बोलनाआज ही गई थी।”
“क्या किया वहाँ?”
“कुछ नहीं! अपनी बहन...” शमा के मुँह से बहन का ज़िक्र निकल गया और वह चुप हो गई।
“आपकी बहन भी हैसुमित ने तो कभी नहीं बताया! कहाँ रहती हैं?”
शमा ने तुरंत छींक दिया। पर यह बात उस लड़की को बिल्कुल नहीं पता थी कि छींकने के बाद चुप हो जाना होता है। वह बार-बार पूछती रही। शमा ने जल्दबाज़ी में दाल का कुकर उतारा और बहुत मीठी चाय पीपल के लिए बनाना शुरू किया। उस लड़की ने शमा का हाथ पकड़कर उसे अपनी तरफ़ घुमा लिया।
“आप इतना डरती क्यों हैं?”
तभी सुमित किचन में आया।
“क्या हुआ?” उस लड़की ने शमा का हाथ तुरंत छोड़ा।
“मैं तुम्हारी माँ का हाथ बँटाने की सोच रही थी।”
“उन्हें ज़रूरत नहीं है। वह कर लेती हैं काम। चलो तुम्हें गाँव दिखा दूँ।”
“आप भी चलेंगी?” उसने शमा से पूछा।
“अरे स्नेहावह कहीं नहीं जातींतुम चलो।”
सुमित ने स्नेहा का हाथ पकड़ा और खींचकर बाहर ले गया। स्नेहा की आँखें जाते हुए भी शमा पर टिकी रहीं। स्नेहा के जाते ही शमा ने पीपल को चाय चढ़ाने के पहलेदूसरी बार का झूठा छींका और चाय चढ़ाकर पीपल पर हाथ जोड़ लिए।
रात का खाना सजा हुआ था। शमा दाल में एक रोटी मीस रही थी। कम दाँत होने की वजह से पति जैसे पति को चबाते नहीं बनता थासो शमा को उन्हें हर चीज़ मीसकर देनी होती थी।
“ये भिंडी कितनी स्वाद बनी है! मैं भिंडी बिल्कुल पसंद नहीं करती हूँपर ये तो बहुत ही स्वाद है।” स्नेहा खाते हुए बोली। शमा रोटी मीस चुकी थी। उसने थाली उनके पास सरका दी और ख़ुद उठकर किचन में चली गई। भीतर उसने अपने लिए दाल-चावल मीसे और एक कच्चा टमाटर हाथ में रख उसे हर कौर के साथ खाने लगी। कुछ देर में जब पति जैसे पति के खाँसने की आवाज़ आई तो वह बाहर आकर उन्हें उनके बिस्तर तक छोड़ आई। जब सुमित और स्नेहा अपने कमरे में जा चुके थेतब वह सारा सामान वापस किचन में ले गई। उसे किचन साफ़ करने में बहुत देर हो गई। जब सारा तय काम ख़त्म करके वह बाहर आई तो देखा कोई आँगन में बैठा है। वह बाहर आई तो देखा उसकी बहन आँगन में उकड़ू बैठी हुई है। शमा ने बहुत धीरे से दरवाज़ा अपने पीछे बंद किया और अपनी बहन के बग़ल में आकर बैठ गई।
“सखीतू यहाँ क्या कर रही है?” उसने पूछा।
“देख तूने मना किया था फिर भी मैं आ गई।”
“मुझे पता है आजकल तुझे भूलने की बीमारी हो रही है।”
“नहीं मुझे पता था कि मैं आ रही हूँ और पता होते हुए भी कि मुझे नहीं आना हैमैं आ गई।”
“देख अभी बहुत हलचल है घर में।”
“मुझे बहुत डरावना सपना आया।”
शमा चुप हो गई। दोनों देर तक अँधेरी ज़मीन में देख रहे थेमानो सपना घास के बीच में से कहीं आएगा।
“बहुत घबराहट हो रही है।” बहन ने कहा।
“तू सपना बोल।” वह घास की तरफ़ आँख गड़ाए थी।
“घोड़ा!” बहन ने कहा।
“हाँ घोड़ा।”
“दिखा तुझे?”
“हाँ दिखा।”
“कत्थई रंग का सुंदर घोड़ा!”
“हाँ कत्थई रंग का सुंदर घोड़ा।”
“कत्थई रंग का सुंदर घोड़ा सपने में आया। मैं और घोड़ा दोनों एक साथ एक ख़ाली मैदान में लेटे हुए थे। मैं उसके गाल और गर्दन के बीच कहीं सिर टिकाए पड़ी हुई थी। हर कुछ देर में हम दोनों एक-दूसरे से स्नेह का इज़हार करते। वह घोड़ा प्यार से अपनी गर्दन घुमाता और मेरे गालों से लगा देता। मैं देर तक उसका कोमल स्पर्श अपने गालों पर महसूस करती रही। कुछ देर में घोड़ा उठा और उसने मुझे माथे और गालों पर चूमा। मै वहीं चित्त पड़ी रही। फिर वह धीरे-धीरे एक कमरे की तरफ़ बढ़ गया। वह यही घर था। मुझे पता चला कि यह घोड़ा तो सालों से हमारे पीछे वाले कमरे में क़ैद है। जब घोड़ा उस कमरे के दरवाज़े से जैसे-तैसे अंदर जा रहा था तो वह एक बार रुका। मुझे लगा वह पलटेगापर वह नहीं पलटा। फिर तुम्हारे ये एक डंडा लेकर आए और घोड़े के कमरे में चले गए। उन्होंने पीछे से दरवाज़ा बंद कर दिया।” बहन ने इतना बोलकर घास पर से अपनी आँखें हटा लीं और वापस उकड़ू बैठ गई। उसने अपनी गर्दन अपने दोनों पैरों के बीच फँसा दी।
“मैंने इनका डंडा तो बहुत पहले पानी की टंकी के ऊपर छुपा दिया है। ये कभी-कभी उसे ढूँढ़ते हैंफिर थकने के बाद मुझे कहते हैं तो मैं भी मेरे थकने तक यहाँ-वहाँ ढूँढ़ती रहती हूँ।”
“पर जब वह घोड़ा चीख़ रहा था तो उसकी आवाज़ अजीब-सी थीजैसे वह गा रहा हो। और पता है...”
“रुक जा मैं देखकर आती हूँ कि सब सो गए हैं कि नहीं।”
शमा भीतर आई तो देखा पति जैसा पति ख़र्राटे ले रहा है। पर सुमित के कमरे का दरवाज़ा हल्का खुला हुआ था। शमा को अचानक लगा कि छत पर कोई चल रहा है। वह दबे पाँव ऊपर गई और धीरे से छत का दरवाज़ा खोला तो देखा वहाँ स्नेहा एक कोने में खड़ी होकर सिगरेट पी रही है। वह भागती हुई नीचे आई तो देखा बाहर बहन नहीं है। उसने आँगन से ऊपर देखा तो स्नेहा उसे देख रही थी—ऐसे जैसे वह बहुत देर से उसे देख रही है। शमा ने बाहर के दरवाज़े पर कुंडी लगाई और अपने पूजा वाले कमरे में आकर सो गई।
जैसे बहुत प्रयत्न से एक घरघर बनता है। बहुत प्रयत्न से एक जीवन रेंगते हुए कटता है।
धूल मानो समुद्र में उठती लहरें हों। वह रोज़ बाहर फेंकने पर रोज़ भीतर आ जाती है। शमा को लगता कि सालों से चली आ रही समुद्र और ज़मीन की लड़ाई में अंत में समुद्र ही जीतेगाक्योंकि वह थकता ही नहीं है। वह रोज़लगातारधीरे-धीरे भीतर आने की कोशिश में लगा रहता है। 
सुबह नाश्ते में सुमित बाहर से समोसे और जलेबी लाया। शमा सबके लिए चाय ले आई। सबने जलेबी और समोसे चटखारे मारकर खाए। पति जैसे पति को जलेबी मना थीपर सुमित ने एक खिला दी। फिर वह दिन भर बिस्तर और बाथरूम के बीच घूमता रहा। उस घूमने में शमा के तय जैसे काम बहुत बढ़ गए। वह नदी जाना चाहती थी। जब दोपहर में पति जैसा पति अपने पलंग पर पस्त पड़ गया तो उसने उसे नींद की गोली खिला दी। किचन पूरा बिखरा पड़ा था और अभी दोपहर का खाना बनाना बचा था। तय जैसे काम बढ़ जाने पर शमा परेशान नहीं होतीबल्कि उसे एक युद्ध की तरह लेती। बहुत प्रयत्न से घरघर जैसा बना रहता था।
उस युद्ध के बीच स्नेहा किचन में आई।
“मुझे भिंडी बनाना सिखा दो।”
“आज तो मैं भिंडी नहीं बना रही हूँ।”
“तो क्या बना रही हैं?”
“कढ़ी-चावल और हरी मिर्च की चटनी।”
“चलिएमैं ये तो सीख ही लेती हूँ।”
शमा कुछ नहीं कह पाई। स्नेहा ने हाथ बँटाने की इच्छा से सिंक में रखे बर्तनों को माँजना शुरू कर दिया। शमा को यह ठीक लगा। तय जैसे बहुत से तय कामों में से एक काम कम है अब। पहली बार शमा को किचन में किसी का प्रवेश बहुत बुरा नहीं लगा। वह मंद-मंद मुस्कुराई। शमा की मुस्कुराहट की आहट पाकर स्नेहा भी सहज हो गई। बर्तन माँजते हुए स्नेहा एक फ़िल्मी धुन की सीटी बजाने लगी। शमा ने पहली बार स्नेहा को ध्यान से देखा—नीली जींसपीली टी-शर्ट और हरी जैकिट—शमा उसे देख ही रही थी कि स्नेहा पलटी और बोली, “मेरा पेट बहुत दर्द कर रहा है मछली।”
शमा दंग रह गई। शमा स्नेहा के क़रीब आई।
“क्या हुआ?” स्नेहा ने पूछा।
“तुम्हारे पेट में दर्द है?” शमा ने पूछा।
“नहींथोड़ा अटपटा लग रहा हैपर ठीक है।”
“मेरे पास एक दवा हैअभी देती हूँ।”
“नहींमुझे नहीं चाहिए।”
शमा ने पीछे की अलमारी से एक शीशी निकाली। पानी में घोलकर दवा स्नेहा के पास लाई। स्नेहा ने पहले मना कियाफिर वह शमा की ज़िद के आगे हार गई और एक झटके में उसने वह काढ़ा पी लिया। काढ़ा बहुत कड़वा था। स्नेहा ने अपना मुँह सिकोड़ लिया। शमा को स्नेहा का मुँह देखकर हँसी आई और उसके मुँह से निकला, “मछली!” और वह फिर हँसने लगी।
“सुमित बिल्कुल आपके जैसा हँसता है।” स्नेहा ने कहा।
“नहीं वह इनके जैसा है।”
“दिखता बिल्कुल अपने पापा की तरह हैपर हँसी आप जैसी है।”
“नहीं वह हँसता भी इनके जैसा ही है।” शमा यह बात ग़ुस्से में कहना चाह रही थीपर वह बहुत ख़ुश थी। उसने अपनी मछली को दवा पिलाई थी।
“मैंने रात में आपको आँगन में बैठे देखा था।” स्नेहा ने कहा।
“ये देखो पहले हम बेसन लेते हैं और उसी में नमक और मिर्ची मिला देते हैं।” शमा ने बात तुरंत काट दी फिर उसने स्नेहा का हाथ पकड़ा और उसकी उँगलियाँ बेसन में डाल दीं।
“चलो अब तुम बनाओ और मैं तुम्हें बताती जाऊँगी।”
शमा बताती गई और स्नेहा खाना बनाती गई। कुछ देर में दोनों को बताने और खाना बनाने में मज़ा आने लगा। कढ़ी बनने के बाद शमा ने कड़छी से कढ़ी अपने हाथ पर डाली और उसे चखा। स्नेहा उसे देखती रही।
“कैसी है?” स्नेहा ने बड़ी उत्सुकता में पूछा।
“थोड़ी तीख़ी हो गई हैपर सबको पसंद आएगी।”
शमा के हाथों पर बची हुई कढ़ी को स्नेहा ने चाट लिया। उसे लगा कि ठीक ही बनी है। किचन साफ़ करते हुए स्नेहा फिर सीटी बजाने लगी। शमा उसे देर तक देखती रही।
वह नदी किनारे पैदा हुई थी। नदी आस-पास ही है का एहसास उसके शरीर में हरदम रहता था। कल के कढ़ी-चावल सबको पसंद आए थे। पुरुषों के समाज में ऐसे कामों की सबसे ज़्यादा तारीफ़ होती है। सबने स्नेहा के हुनर की तारीफ़ की। स्नेहा की गोद मेंवह और अच्छा खाना बनाएगी का सपना आकर गिर गया था।
आज के दिन के तय कामों में सूरज उसे सीधा ऊपर दिखा। पति जैसे पति की तबियत हिली हुई थी तो वह सो रहा था। बार-बार गुफा में गुमे हुए प्रेत को उसके पलंग तक पहुँचाने के तय काम उसे नहीं करने पड़े थेवह वक़्त उसका बच गया था। उसने वक़्त देखा कि उसके पास थोड़ा टाइम है। वह भागकर अपनी नदी से मिलने गई। बहुत देर तक उसने नदी में हाथ नहीं डाला। वह नदी जैसी नदी के बग़ल में मुस्कुराते हुए उसका बहना देखती रही। उसने देखा उसकी बहन उससे मिलने अभी तक नहीं आई। वह नदी के पास गई और नदी के पानी में अपना हाथ डाल दिया। आज वह थमी हुई थी सो नदी जैसी नदी भी उसके साथ थम गई थी। उसकी बहन ने उसके कंधे पर हाथ रखा। वह उसके बग़ल में बैठी हुई थी।
“अरे तू कब आई?” शमा ने पूछा।
“बस अभी! आज गोलगप्पे खाने चलें?”
“नहीं आज तो बिल्कुल टाइम नहीं है।”
“आज जाते वक़्त लौकी ले जाना मत भूलना।”
“लौकी के साथ कुछ और भी ले जाना पड़ेगावरना लगेगा कि सिर्फ़ लौकी लेने में इतना टाइम लग गया?”
“हाँ! अदरकलहसुनधनिया भी ले लेना।”
“...थोड़ी हरी मिर्च भी।” शमा मुस्कुराते हुए बोली।
“आज तू इतना चहक क्यों रही है?” बहन उसके क़रीब आकर बोली।
“तुझे तो सब पता होता है तू बता।”
“आज तुझे कुछ बहुत पुरानी बात याद आ गई है।”
“हाँ।”
“बता कौन-सी?”
“तू बता कौन-सी?” शमा ने अपनी बहन से लड़ियाते हुए पूछा।
“तुझे याद आ गया कि तेरी मछली तुझसे क्या कहना चाहती थी।”
शमा गंभीर हो गई। उसने नदी जैसी नदी से हाथ बाहर निकाला। नदी जैसी नदी जो अब तक स्थिर थी वापस बहने लगी थी।
“मैं आज सुबह से यही सोच रही हूँ।”
“पिक्कू भैया भी पगले ही हैंऐन वक़्त पर तुझे बाहर खींच लिया।” उसकी बहन ने कहा।
“जब मैं मछली को दवाई पिलाने गई थी तो उसने मुझसे कुछ कहा था- तिलिस्ममंज़रजालधोखा... मैं बहुत छोटी थीउन बातों को समझ नहीं पाई। और आजकल तो मैं सब कुछ भूलती जा रही हूँ।”
“दिमाग़ पर ज़ोर लगाध्यान दे। अच्छा ऐसा कर शुरू से बताजब तू डूब रही थी और तूने बहुत सारा पानी पी लिया था वहाँ से।”
“तेरे को बताऊँ कि मैं क्यों ख़ुश हूँ?”
“बोल भी दे।”
“अभी मेरी मछली मुझसे मिलने वापस आई है। वह उस वक़्त दवा नहीं खा पाई थी शायद। उसके पेट में अभी भी दर्द था। मैंने उसे दवा पिला दी है।”
“तूने अपनी मछली को दवा पिला दी?”
“हाँ।”
सखी उठकर नाचने लगी। शमा देर तक उसे देखकर हँसती रही। कुछ देर में शमा ने सखी का हाथ पकड़ा और अपने पास खींच लिया।
“सुन अब बस मुझे उससे पूछना है कि उसने मुझे उस दिन क्या बताया था। एक बार बस वह पता चल जाए। है ना?”
“नायह मत पूछना।”
“तू डरती है।”
“मैंने सपने में घोड़ा देखा हैमत पूछना।”
“देख मैं तेरे से एक और बात पूछना चाहती हूँअगर मछली ख़ुद मेरे पास...”
इतना सुनते ही उसनी बहन ने छींक दिया। शमा ने सखी की तरफ़ देखा। सखी इशारे से मना करने लगी। शमा अपनी बहन से बहुत कुछ कहना चाह रही थी। उसने इशारे से अपनी बहन से कहा कि एक बार और छींकपर उसने नहीं छींका। दोनों देर तक छींक की चुप्पी में नदी किनारे बैठे हुए एक-दूसरे को देखते रहे। जब शमासखी को छोड़कर जा रही थी तो दूर से उसने अपनी बहन को नदी किनारे बैठे हुए देखा। सखी को छींक आ ही रही थी कि उसने कसकर मुँह पर हाथ रख दिया और छींक रोक ली। शमा वापस घर चली गई।
बहुत-सी त्रासदियाँ अगल-बग़ल ही घट रही होती हैं। बड़ी त्रासदियों का विरोध सदियों तक लोग करते नहीं थकतेपर छोटी-छोटी त्रासदियाँ जो हमारे ही घरों में सालों से घट रही होती हैंहमें बहुत सामान्य दिखती हैं। दूर से पूरा घर स्वस्थ दिखता हैपर त्रासदी नज़र नहीं आती। यह त्रासदियाँ सदियों की हैंइसलिए यह अब घरों की दीवारों का हिस्सा लगने लगी हैं। सीलनदरारेंधूल के साथ साँस लेतीइन्हें कितना भी साफ़ करोयह कभी ख़त्म नहीं होती।
दबे-कुचले जीवन में भी एक रोशनदान सपनों-सा खुला होता है। उस रोशनदान से आ रही रोशनी पूरे घर में उजाला नहीं करती हैपर अगर उसमें से झाँको तो उतना ही बड़ा आसमान वह भी भीतर पाले हुए है। जहाँ से अगर कोई चाहे तो निकलकर खुले आसमान में उड़ सकता है।
शमा को घर वापस आते-आते देर हो गई। वह जब पहुँची तो स्नेहा टेबल पर खाना लगा रही थी। पति जैसा पति घूरकर उसे देख रहा था। सुमित ने भी अपना ग़ुस्सा दोनों कंधे उचकाकर जताया। शमा भागती हुई किचन में गईपीछे से स्नेहा आई।
“सब लगा दिया हैआप बस पापाजी के लिए तो पतली रोटी सेंक लाओ।”
शमा आटा गूँथने लगी। स्नेहा जल्दी से सलाद काटने लगी।
“मैंने पापाजी को इतना नाराज़ नहीं देखा पहले। वह कुछ ढूँढ़ रहे थे।”
“जो ढूँढ़ रहे थे मिला उन्हें?” शमा ने डरते हुए पूछा।
हमने चलता फिरता प्रेत / Chalta Phirta Pret PDF Book Free में डाउनलोड करने के लिए लिंक निचे दिया है , जहाँ से आप आसानी से PDF अपने मोबाइल और कंप्यूटर में Save कर सकते है। इस क़िताब का साइज 1.4 MB है और कुल पेजों की संख्या 154 है। इस PDF की भाषा हिंदी है। इस पुस्तक के लेखक   मानव कौल / Manav Kaul   हैं। यह बिलकुल मुफ्त है और आपको इसे डाउनलोड करने के लिए कोई भी चार्ज नहीं देना होगा। यह किताब PDF में अच्छी quality में है जिससे आपको पढ़ने में कोई दिक्कत नहीं आएगी। आशा करते है कि आपको हमारी यह कोशिश पसंद आएगी और आप अपने परिवार और दोस्तों के साथ चलता फिरता प्रेत / Chalta Phirta Pret को जरूर शेयर करेंगे। धन्यवाद।।
Q. चलता फिरता प्रेत / Chalta Phirta Pret किताब के लेखक कौन है?
Answer.   मानव कौल / Manav Kaul  
Download

_____________________________________________________________________________________________
आप इस किताब को 5 Stars में कितने Star देंगे? कृपया नीचे Rating देकर अपनी पसंद/नापसंदगी ज़ाहिर करें।साथ ही कमेंट करके जरूर बताएँ कि आपको यह किताब कैसी लगी?
Buy Book from Amazon
5/5 - (108 votes)

Leave a Comment