भाषण कला PDF | Bhashan Kala

प्रतिष्‍ठित लेखक महेश शर्मा का लेखन कार्य सन् 1983 में तब आरंभ हुआ; जब वे हाई स्कूल में अध्ययनरत थे। बुंदेलखंड विश्‍वविद्यालय; झाँसी से सन् 1989 में हिंदी में एम.ए. किया। उसके बाद कुछ वर्षों तक विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं के लिए संवाददाता; संपादक और प्रतिनिधि के रूप में कार्य किया। अब तक अनेक पत्र-पत्रिकाओं में उनकी 3;000 से अधिक विविध विषयी

» Read more

अमर शहीद भगत सिंह / Amar Shaheed Bhagat Singh

आज तुम्हारी आँखों में आँसू देखकर बहुत दु:ख हुआ। आज तुम्हारी बातों में बड़ा दर्द था। तुम्हारे आँसू मुझसे सहन नहीं होते। बरखुरदार; हिम्मत से शिक्षा प्राप्‍त करना और सेहत का खयाल रखना। हौसला रखना। और क्या कहूँ… ‘उसे यह फिक्र है हरदम; नया तर्जे जफा क्या है? हमें यह शौक देखें; सितम की इंतेहा क्या है? दहर से क्यों

» Read more