राम की शक्त्ति पूजा / Ram Ki Shakti Pooja

‘राम की शक्ति पूजा’ (ram ki shakti puja) काव्य को निराला जी ने 23 अक्टूबर, 1936 में पूरा किया था. इलाहाबाद से प्रकाशित दैनिक समाचारपत्र ‘भारत’ में पहली बार उसी वर्ष 26 अक्टूबर को इस कविता का प्रकाशन हुआ था. Nirala Ki Shakti Puja: सूर्यकान्त त्रिपाठी ‘निराला’ (Suryakant Tripathi Nirala) को ‘महाप्राण’ भी कहा जाता है. पुस्तक का कुछ अंश

» Read more