दुनिया मेरी जेब में / Duniya Meri Jeb Mein by James Hadley Chase Download Free PDF

5f1ea85529739.php

चार शख्स एक मेज के इर्द-गिर्द बैठे थे। मेज पर ताश के पत्ते, जुए में इस्तेमाल होने वाले पोकर विप्स, सिगरेट के टोटों से भरी ऐशट्रे, चार गिलारा और शराब की एक बोतल मौजूद थी।
मेज पर सीधी पड़ती हरे शेड की रोशनी के अलावा वहाँ शेष पूरे कमरे में अंधेरा था, वातावरण में सिगरेट का कसैला धुंआ बसा हुआ था।
वहाँ मौजूद चारों में सर्द और बेचैन आंखों वाले, पतले मुंह और लम्बे-चौड़े शरीर वाले का नाम मोर्गन था। उसने अपने हाथ में थामे चारों बादशाह मेज पर रख दिए और अपनी कुर्सी पर कमर सटाकर मेज को धीर-धीर बजाने लगा।
अन्य तीनों ने चुपचाप उसे यह सब करते हुए देखा और फिर उन्होंने भी बेमन से अपने-अपने पत्ते मेज पर फेंक दिए। उनमें से एक-जीपो, जिसका वास्तविक नाम गिसेप्पी मेनदीनी था, बेमन से मुस्कुराया और फिर अपने सामने मेज पर रखे पोकर विप्स मोर्गन की ओर खिसका दिए।
जीपो एक काले घुघराले बालों वाला मोटी गेंद जैसा गोल-मटोल, लम्बी खूब चोचदार नाक और धूप से तपे गहरी रंगत के जिस्म का मालिक था।
“मैं खाली हो गया हूँ।”—वह बोला—“कैसी किरमत है! पूरी शाम गुजर गई लेकिन एक बार भी ढंग के पते नहीं आए।” एड ब्लैंक के सामने अभी भी पोकर विप्स बवे पड़े थे। उसने उनमें से वार चिप्स मोर्गन की ओर बढ़ाए। एड ब्लैक एक ऊँचे कद वाला, धूप में खूब तपे जिस्म का मालिक था। उसके खूबसूरत व्यक्तित्व पर एक ऐसी कठोरता और निर्दयता की छाप थी कि महिलाएं उसकी ओर खिंची चली आती थीं लेकिन पुरुष उसे देखते ही सतर्क हो जाते थे। उसने बेहद करीने से प्रेस किया हुआ सूट पहना था और कमीज के साथ हाथ से पेन्ट की हुई टाई लगाई हुई थी जिस पर हरे बैकग्राउंड में पीले रंग से घोड़े का खुर पेन्ट किया गया था। निःसन्देह वह उन चारों में सबसे ज्यादा करीने से सजा-धजा व्यक्ति था….

4/5 - (5 votes)

Leave a Comment