हितोपदेश की प्रसिद्ध कहानियाँ / Hitopadesh Ki Prasiddh Kahaniyan Hindi Download Free PDF Read Online

पुस्तक का विवरण (Description of Book of हितोपदेश की प्रसिद्ध कहानियाँ / Hitopadesh Ki Prasiddh Kahaniyan PDF Download) :-

नाम 📖हितोपदेश की प्रसिद्ध कहानियाँ / Hitopadesh Ki Prasiddh Kahaniyan PDF Download
लेखक 🖊️
आकार 1 MB
कुल पृष्ठ27
भाषाHindi
श्रेणी
Download Link 📥Working

[tdc_zone type="tdc_content"][vc_row][vc_column][/vc_column][/vc_row][vc_row][vc_column][/vc_column][/vc_row][/tdc_zone]

हमने हितोपदेश की प्रसिद्ध कहानियाँ / Hitopadesh Ki Prasiddh Kahaniyan PDF Book Free में डाउनलोड करने के लिए लिंक निचे दिया है , जहाँ से आप आसानी से PDF अपने मोबाइल और कंप्यूटर में Save कर सकते है। इस क़िताब का साइज 1 MB है और कुल पेजों की संख्या 27 है। इस PDF की भाषा हिंदी है। इस पुस्तक के लेखक   नारायण पंडित / NARAYANA PANDITA   हैं। यह बिलकुल मुफ्त है और आपको इसे डाउनलोड करने के लिए कोई भी चार्ज नहीं देना होगा। यह किताब PDF में अच्छी quality में है जिससे आपको पढ़ने में कोई दिक्कत नहीं आएगी। आशा करते है कि आपको हमारी यह कोशिश पसंद आएगी और आप अपने परिवार और दोस्तों के साथ हितोपदेश की प्रसिद्ध कहानियाँ / Hitopadesh Ki Prasiddh Kahaniyan को जरूर शेयर करेंगे। धन्यवाद।।
Q. हितोपदेश की प्रसिद्ध कहानियाँ / Hitopadesh Ki Prasiddh Kahaniyan किताब के लेखक कौन है?
Answer.   नारायण पंडित / NARAYANA PANDITA  
Download

_____________________________________________________________________________________________
आप इस किताब को 5 Stars में कितने Star देंगे? कृपया नीचे Rating देकर अपनी पसंद/नापसंदगी ज़ाहिर करें।साथ ही कमेंट करके जरूर बताएँ कि आपको यह किताब कैसी लगी?

हितोपदेश की कहानियाँ भारतीय परिवेश को ध्यान में रखकर लिखी गई उपदेशात्मक कथाएँ हैं, जिसके रचनाकार नारायण पंडित हैं। हितोपदेश की कथाएँ अत्यंत सरल, रोचक, प्रेरक और सुग्राह्य हैं। विभिन्न पशु-पक्षियों पर आधारित तार्किक कहानियाँ इसकी खास विशेषता है, जिनकी समाप्ति किसी शिक्षाप्रद बात से होती है।
इस पुस्तक में हितोपदेश की मूल लोकप्रिय कहानियों को स्थान दिया गया है। कहानियों को रोचक और पठनीय बनाने के लिए इनके मूल शीर्षक, क्रम, कथानक और विस्तार को यथोचित संपादित कर दिया गया है, लेकिन कथा की मूल भावना को जीवंत रखा गया है, जिससे पाठक पारंपरिक आस्वादन पाने से वंचित न हों।
अपनी रचना के कई सौ साल बाद भी इन कथाओं की लोकप्रियता में जरा भी कमी नहीं आई है तो केवल इनमें निहित संदेश के कारण। इनका कथानक पाठकों को अपने आस-पास घटित हुआ जान पड़ता है। यही कारण है कि वे सहज ही इनसे अपने आप को जोड़ लेते हैं। यही इन कथाओं की सबसे बड़ी खूबी है, जिसके कारण ये सदाबहार बनी हुई हैं।
मनोरंजन तथा नैतिक ज्ञान से भरपूर कहानियों की पठनीय पुस्तक।

5/5 - (22 votes)

Leave a Comment