सब सितारों का खेल है / Sab Sitaron Ka Khel Hai: It’s All In The Planets

5f1ea85529739.php

अनिकेत से मिलिए। सत्ताईस, टेकी, श्री औसत। उनका सबसे अच्छा दोस्त सुब्बू है, एक बेवकूफ है जो सांस लेता है, सोचता है और कोड जीता है। अनिकेत अपनी किस्मत पर विश्वास नहीं कर सकता है जब वह त्रिश – एक तेजस्वी, सेक्सी मॉडल के साथ डेटिंग करना शुरू करता है, जो पूरी तरह से अपने लीग से बाहर है। लेकिन त्रिश के पास उन चीजों की एक सूची है जो वह चाहती हैं कि वह काम करना शुरू कर दें, अपने पॉटबेल्ली और अपनी गीकनेस के साथ।
फिर निधी, बत्तीस की हैं, जिन्होंने अपने जुनून का पालन करने के लिए अपनी कॉर्पोरेट नौकरी छोड़ दी है। वह एक पहलू को छोड़कर, मनोज, मिस्टर परफेक्ट से जुड़ी हुई है।
अनिकेत और निधि ट्रेन में मिलते हैं, एक मौका मिलता है, और वह अपना ‘रिलेशनशिप कोच’ बनने के लिए सहमत होता है। यह एक निर्णय है जो उन घटनाओं की एक श्रृंखला को निर्धारित करता है जो सभी शामिल लोगों के जीवन पर गहरा प्रभाव डालते हैं।
एक आदमी, दो औरतें और जाल जिसे डेस्टिनी कहा जाता है। कुछ चीजें, वे कहते हैं, सभी ग्रहों में हैं।

कमबख्त! मुझे बहुत ही बेवकूफाना महसूस हुआ और मैंने अपनी आवाज
धीमी कर ली।
‘नहीं। मैं सही नहीं हूं। तुम मुझे शांत रहने को कैसे कह सकते हो? उसने कहा है उसे
इस बारे में सोचने के लिए समय चाहिए। तुम जानते भी हो इसका मतलब क्या है? तुम कैसे
जान सकते हो? तुम तो कभी किसी रिलेशनशिप में रहे नहीं, तो फिर तुम कैसे समझ सकते
हो।’
सुब्बु की जगह कोई और होता तो अब तक फोन पटककर मुझे भाड़ में जाने को बोल
चुका होता। लेकिन सुब्बु? वह मुझे बहुत प्यार करता है। सुब्बु, मेरा पायलट, मेरा
रिलेशनशिप फिलॉसफर, मेरा गाइड और अब तो मेरा थेरेपिस्ट भी, बड़े इत्मीनान से तृषा के
साथ हुए मेरे मसले को सुन रहा था। और मेरी आखरी लाइन तो हद पार कर चुकी थी। मुझे
उसे सुधारने की कोशिश करनी थी।
‘आई एम सॉरी, ब्रो। मुझे वो नहीं कहना चाहिए था। मुझे अफसोस है,’ मैंने कहा।
मुझे वो बात नहीं कहनी चाहिए थी। लेकिन मैं तृषा के लेटेस्ट मिसाइल से बहुत परेशान
और टूटा हुआ था।
बंगलौर केंटोंमेंट स्टेशन जाते हुए मैंने रास्ते में ऑटो में वो मेल पढ़ी थी।
o
अनि,
मैं तुम्हें सच में डम्प नहीं कर रही हूं (खैर, अभी तो नहीं! अरे मजाक कर रही हूं!)।
प्लीज घबरा मत जाना और इस मेल को वो मत मान लेना। लेकिन मुझे अपने रिलेशनशिप
के बारे में सोचने के लिए कुछ समय चाहिए।
सच में। तुम मुझे सांस लेने की भी जगह नहीं देते। तुम एक मेल भेजते हो, फिर मैसेज
से उसके बारे में पता करने लगते हो, फिर तीन लिंक्स भी भेज देते हो, और इससे पहले कि
मुझे वो देखने का टाइम भी मिले, इतने में तुम फोन ही खड़का देते हो।

Leave a Comment