चार्ली चैप्लिन PDF | Charlie Chaplin Biography

निर्विवाद रूप से चार्ली चैप्लिन सार्वकालिक सर्वश्रेष्‍ठ हास्य अभिनेता माने जाते हैं। छोटी मूँछें; तंग कोट; काली ऊँची टोपी; बड़े जूते; ढीली पैंट और छड़ी के साथ ‘ट्रैंप’ के किरदार के रूप में विश्‍व भर के सिनेदर्शकों के मन में उन्होंने अमिट पहचान बनाई। चार्ली चैप्लिन एक सितारे की तरह फिल्म जगत् के फलक पर चमके। उनकी फिल्मों ने आम

» Read more

शेखर : एक जीवनी (भाग -1) उत्थान

‘शेखर: एक जीवनी’ अज्ञेय का सबसे अधिक पढ़ा गया उपन्यास है. यह हिंदी की एक ऐसी कथा-कृति जिसे इसके प्रकाशित होने के बाद से हर पीढ़ी का प्यार मिला. चाहे वह साहित्य की अभिरुचि वाला छात्र हो या आम पाठक इससे गुजरने के बाद हर कोई जीवन की एक भरी-पूरी छलछलाती नदी में डूबकर निकल आने जैसा अनुभव करता है.

» Read more

आपहुदरी PDF | Aaphudri

विविधता भरे अनुभवों की धनी रमणिका गुप्ता की आत्मकथा की यह दूसरी कड़ी आपहुदरी एक बेहद पठनीय आत्मकथा है । उनकी आत्मकथा की पहली कड़ी हादसे से यह कई अर्थों में अलग है । सच कहेंतो यही है उनकी असल आत्मकथा। यहां लेखिका का निजी जीवनउनके संघर्ष का सच एक स्त्री की कसौटी पर उद्घाटित हुआ है । यहां एक

» Read more

माँ मैं कलेक्टर बन गया PDF / Maa Main Collector Ban Gaya

★ अत्यंत अभावग्रस्त स्थितियों से जूझकर आकाश को छूने की उड़ान भरनेवाले संघर्षमय प्रवास को ‘माँ, मैं कलेक्टर बन गया’ पुस्तक का नायक भले ही राजेश पाटील है, परंतु वह अनगिनत अभावग्रस्त युवकों का प्रतिनिधित्व करता है। ★ एक बाल मजदूर के रूप में निरंतर संर्घषरत रहकर उसने अपने सपनों को कुचला नहीं, उन्हें खोया नहीं, बल्कि उन्हें साकार करने के लिए अद्भुत जिजीविषा और अदम्य इच्छाशक्ति का प्रदर्शन

» Read more

सुभाषचंद्र बोस की अधूरी आत्मकथा / Subhash Chandra Bose Ki Adhoori Atmkatha

सुभाषचंद्र बोस की ‘भारत की खोज’; जवाहरलाल नेहरू की तुलना में उनके जीवन में काफी पहले ही हो गई; यानी उन दिनों वे अपनी किशोरावस्था में ही थे। वर्ष 1912 में पंद्रह वर्षीय सुभाष ने अपनी माँ से पूछा था; ‘स्वार्थ के इस युग में भारत माता के कितने निस्स्वार्थ सपूत हैं; जो अपने निजी स्वार्थ को त्याग कर इस

» Read more

आप खुद ही बेस्ट हैं / Aap Khud Hi Best Hain

हमें सही मार्ग पर बढ़ने के लिए अपना क्रोध; अहं; असत्यता; छलावा—सब छोड़ना होगा। इन दुर्गुणों को छोड़ते हुए हम स्वयं के अधिक निकट आ जाते हैं। इस तरह हम उसे वापस जगाते और जलाते हैं जो हमारे अंदर था; लेकिन लंबे समय तक गलत बोझ एकत्रित करने से जो दफन हो गया था। — हमारा मस्तिष्क भी एक सूटकेस

» Read more

सत्य के साथ मेरे प्रयोग / Satya Ke Sath Mere Prayog

आपको मानवता में विश्वास नहीं खोना चाहिए। मानवता सागर के समान है; यदि सागर की कुछ बूँदें गन्दी हैं, तो पूरा सागर गंदा नहीं हो जाता। सत्य के साथ मेरे प्रयोग मैं जो प्रकरण लिखने वाला हूँ, इनमें यदि पाठकों को अभिमान का भास हो, तो उन्हें अवश्य ही समझ लेना चाहिए कि मेरे शोध में खामी है और मेरी

» Read more

टर्निंग प्वाइंटस / Turning Points 

टर्निंग प्वाइंट’ पूर्व राष्ट्रपति कलम की अतुल्य कहानी है जो वहाँ से शुरू होती है, जहाँ उनकी आत्मकथा का पहला भाग ‘विंग्स ऑफ फायर’ ठहर गया था। यह कहानी उनके जीवन और राष्ट्रपतित्व-काल के कुछ ऐसे पहलू उजागर करती है जो अब तक अनजाने रहे हैं। कई विवादास्पद मुद्दों पर पहली बार उन्होंने अपना बयां दिया है। यह केवल एक

» Read more

अग्नि की उड़न / Agni Ki Udaan / Wings of Fire

त्रिशूल ‘ के लिए मैं ऐसे व्यक्ति की सुलाश में था जिसे न सिर्फ इलेक्ट्रॉनिक्स एवं मिसाइल युद्ध की ठोस जानकारी हो बल्कि जो टीम के सदस्यों में आपसी समझ बढ़ाने के लिए पेचीदगियों को भी समझा सके और टीम का समर्थन प्राप्‍त कर सके । इसके लिए मुझे कमांडर एस.आर. मोहन उपयुक्‍त लगे, जिनमें काम को लगन के साथ

» Read more

द लास्ट गर्ल /The Last Girl

नादिया मुराद एक साहसी यज़ीदी युवती हैं जिन्होंने आईएसआईएस की कैद में रहते हुए यौन उत्पीड़न और अकल्पनीय दुख सहन किया है। नादिया के छह भाइयों की हत्या के बाद उनकी माँ को मार दिया गया और उनके शव कब्रिस्तान में दफ़ना दिए गए। परंतु नादिया ने हिम्मत नहीं हारी। यह संस्मरण, इराक में नादिया के शांतिपूर्ण बचपन से लेकर

» Read more

सत्य के साथ मेरे प्रयोग / Satya Ke Sath Mere Prayog

आपको मानवता में विश्वास नहीं खोना चाहिए। मानवता सागर के समान है; यदि सागर की कुछ बूँदें गन्दी हैं, तो पूरा सागर गंदा नहीं हो जाता। सत्य के साथ मेरे प्रयोग मैं जो प्रकरण लिखने वाला हूँ, इनमें यदि पाठकों को अभिमान का भास हो, तो उन्हें अवश्य ही समझ लेना चाहिए कि मेरे शोध में खामी है और मेरी

» Read more
1 2