गोदान PDF | Godan

गोदान मुंशी प्रेमचंद का एक हिंदी उपन्यास है, यह पहली बार 1936 में प्रकाशित हुआ था और इसे आधुनिक भारतीय साहित्य के सबसे महान हिंदुस्तानी उपन्यासों में से एक माना जाता है। सामाजिक आर्थिक अभाव के साथ-साथ गाँव के गरीबों के शोषण के इर्द-गिर्द घूमता प्रेमचंद का अंतिम पूर्ण उपन्यास था। पुस्तक का कुछ अंश गोदान एक होरीराम ने दोनों

» Read more

अघोरी बाबा की गीता PDF | Aghori Baba Ki Gita

लेखक महोदय से मेरा परिचय फेसबुक के आभसी माध्यम से हुआ, शुरुआत की कोई भाग इत्तेफाक से या किन्हीं के द्वारा साझा करने से मैं पढ़ पाया था, अघोरी और गीता का समावेश “अघोरी बाबा की गीता” शीर्षक मुझे काफी आकर्षित किया। शुरू से कई भागों को पढ़ते वक्त रहस्य और रोमांच में डूबने जैसा ये पुस्तक आगे चलकर गीता

» Read more

दशानन राम-रावण कथा खण्ड-दो | Dashanan (Ram-Ravan Katha)

रामकथा को अलौकिकता के दायरे से निकालकर, मानवीय क्षमताओं के स्तर पर परखने की शृंखला का नाम है ‘राम-रावण कथा’। इस शृंखला के प्रथम खण्ड, ‘पूर्व-पीठिका’ में पाठकों ने राम-रावण कथा के प्रमुख पात्रों और उनकी उत्पत्ति का परिचय प्राप्त किया। इस खण्ड में कथा आगे बढ़ती है। जिस कथा से हममें से अधिकांश लोग परिचित हैं, उसमें रावण की

» Read more

पूर्व पीठिका (राम-रावण कथा खण्ड-एक) pdf | Poorv Pithika (Ram-Ravan Katha Book 1)

रामकथा भारत की जनता की रगों में खून की तरह दौड़ती है। परन्तु इस राम-रावण कथा में रावण विलेन नहीं है। यह दो संस्कृतियों का टकराव है। राम-रावण कथा के इस प्रथम खंड को एक प्रकार से परिचय खंड भी कहा जा सकता है। रामायण के पात्रों का परिचय इस खंड में आप पायेंगे। यह परिचय उससे कहीं अधिक है

» Read more

तमस PDF | Tamas

भीष्म साहनी द्वारा तमस तक्षशिला के आसपास स्थापित एक द्रुतशीतन काल्पनिक कहानी है और विभाजन के दौरान मुस्लिम बहुल क्षेत्रों में सांप्रदायिक हिंसा के प्रकोप के अनुभवों को बताती है। कांग्रेस और मुस्लिम लीग की स्थिति अच्छी नहीं थी और उनके बीच वैचारिक संघर्ष थे जो विभिन्न समुदायों के लोगों और उनकी भावनाओं में प्रतिबिंबित होने लगे थे। विभाजन का

» Read more

NRI नॉन रेसिडेंट आईआईटीयंस PDF | NRI Non Resident IITians PDF Download by Kishore Kashyap

इंजीनियरिंग के बाद छोटे शहर के चार दोस्त कोचिंग के लिए दिल्ली जाते हैं और उन्हें IIT में प्रवेश लिए बिना IIT में पढ़ने का रास्ता मिल जाता है, फिर उनका सामना दिल्ली के परीक्षा माफिया से होता है। क्या वे जीवित रहते हैं? पुस्तक का कुछ अंश कंप्यूटर पर बज रहा है मोहम्मद रफ़ी का गाना, तोप सिंह ने

» Read more

शेखर : एक जीवनी (भाग -1) उत्थान

‘शेखर: एक जीवनी’ अज्ञेय का सबसे अधिक पढ़ा गया उपन्यास है. यह हिंदी की एक ऐसी कथा-कृति जिसे इसके प्रकाशित होने के बाद से हर पीढ़ी का प्यार मिला. चाहे वह साहित्य की अभिरुचि वाला छात्र हो या आम पाठक इससे गुजरने के बाद हर कोई जीवन की एक भरी-पूरी छलछलाती नदी में डूबकर निकल आने जैसा अनुभव करता है.

» Read more

मैला आँचल PDF | Maila Aanchal

मैला आँचल फणीश्वरनाथ ‘रेणु’ का प्रतिनिधि उपन्यास है। यह हिन्दी का श्रेष्ठ और सशक्त आंचलिक उपन्यास है। नेपाल की सीमा से सटे उत्तर-पूर्वी बिहार के एक पिछड़े ग्रामीण अंचल को पृष्ठभूमि बनाकर रेणु ने इसमें वहाँ के जीवन का, जिससे वह स्वयं ही घनिष्ट रूप से जुड़े हुए थे, अत्यन्त जीवन्त और मुखर चित्रण किया है। सन् १९५४ में प्रकाशित

» Read more

ठाकुरबाड़ी PDF | Thakurbadi

आभा द्वारा रचित पुस्तक ‘ठाकुरबाड़ी’ एक अपूर्व कृति है । मिथिलांचल के मिट्टी की खुशबू और ग्रामीण परिवेश को ध्यान में रखकर बुनी गई , इस नारीप्रधान उपन्यास में नारी संवेदना, कर्तव्यनिष्ठता तथा पारिवारिक व्यवहारिकता को रोचक ढंग से प्रस्तुत किया गया है । यह समाज में हुए परिवर्तन और उस परिवर्तन के लिए समर्पित व्यक्ति के परिवार की व्यथा-कथा

» Read more

तुझसे नाराज़ नहीं ज़िन्दगी PDF | Tujhse Naraz Nahi Zindagi

एक कमजोर इरादों वाला युवक, आलसी युवक, बहानेबाज। जिन्दगी को नकारात्मक नजर से देखने वाला युवक। जिन्दगी जीने के बजाय जिन्दगी क्या है, क्यों है जैसे प्रश्नों में उलझने वाला युवक।पानी की बेपरवाह धार में छोड़े हुए नाव की तरह। जिन्दगी जिधर ले जाए, कोई लक्ष्य नहीं, कोई तमन्ना नहीं। फिर सगाई, इश्क, शादी और बच्चे। क्या उसकी जिन्दगी में

» Read more

इंडियापा PDF | Indiyaapa

इस मोबाइल के दौर में, जब हर भोपाल, बनारस और पटना, मुंबई हो जाने को बेताब हैं , चंद सालों पहले की कहानियाँ ‘उन दिनों की बात’ होती जा रही हैं। यह सचमुच उन्हीं दिनों की बात है, जब चित्रहार में सबसे ज़्यादा गानें कुमार शानू जी गाते थे, IIT-JEE क्रैक करने वाला लौंडा मुहल्ले में ऐसे देखा जाता था

» Read more

मुसाफिर कैफे PDF | Musafir Cafe

हम सभी की जिंदगी में एक लिस्ट होती है। हमारे सपनों की लिस्ट, छोटी-मोटी खुशियों की लिस्ट। सुधा की जिंदगी में भी एक ऐसी ही लिस्ट थी। हम सभी अपनी सपनों की लिस्ट को पूरा करते-करते लाइफ गुज़ार देते हैं। जब सुधा अपनी लिस्ट पूरी करते हुए लाइफ़ की तरफ़ पहुँच रही थी तब तक चंदर 30 साल का होने

» Read more
1 2 3 14